ईपीएफ के केन्द्रीय न्यासी बोर्ड (सीबीटी) की 231वीं बैठक नई दिल्ली में 29 और 30 जुलाई 2022 को आयोजित की गई

केंद्रीय न्यासी बोर्ड (के.न्‍या.बो.), क.भ.नि की 231वीं बैठक श्री भूपेंद्र यादव, केंद्रीय श्रम एवं रोजगार और पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री की अध्यक्षता में आयोजित की गई। बैठक में उपाध्यक्ष के रूप में श्री रामेश्वर तेली, केन्द्रीय श्रम एवं रोजगार, पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस राज्यमंत्री और सह-अध्यक्ष के रूप में श्री सुनील बड़थ्‍वाल, सचिव, श्रम एवं रोजगार तथा सदस्य सचिव के रूप में श्रीमती नीलम शमी राव, केन्द्रीय भविष्य निधि आयुक्त शामिल हुए।

बोर्ड ने निम्नलिखित विषयों पर चर्चा और विचार-विमर्श किया-

• मानव संसाधन के मुख्य कार्य क्षेत्रों, सूचना प्रौद्योगिकी; पेंशन; व कवरेज और संबंधित मुकदमों को सुव्यवस्थित करने के लिए चार तदर्थ समितियों की सिफारिशों पर हुई प्रगति को विचार-विमर्श के लिए बोर्ड के समक्ष रखा गया।

• बोर्ड ने वित्त, पेंशन और छूट प्राप्त प्रतिष्ठानों से संबंधित उसकी स्थायी समितियों का पुनर्गठन करने और क्षेत्र विशेषज्ञ को प्रत्येक स्थायी समितियों के साथ जोड़ने का संकल्प व्यक्त किया। मानव संसाधन संबंधी मामलों पर एक स्थायी समिति के गठन करने का भी निर्णय लिया गया।

• अधिकारियों के नियमानुरूप और योग्यता आधारित अंतर-राज्यीय स्थानांतरण की सुविधा के लिए ईपीएफओ के समूह बी के अधिकारियों के लिए स्थानांतरण नीति को स्वीकृति दी गई।

• ईपीएफओ में मुकदमेबाजी प्रबंधन और अन्य संबंधित कार्य क्षेत्रों के लिए 35 युवा पेशेवरों (कानून) को अनुसंधानकर्ताओं के रूप में शामिल करने के प्रस्ताव को मंजूरी दी। इन युवा कानून पेशेवरों के पास अपेक्षित क्षेत्र विशेषज्ञता और पेशेवर प्रशिक्षण होगा जो ईपीएफओ में पेशेवर मुकदमेबाजी प्रबंधन की सुविधा प्रदान करेगा।

• बोर्ड ने 2019 में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के गठन के बाद लागू किए गए ईपीएफ और एमपी अधिनियम,1952 के बेहतर कार्यान्वयन के लिए जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में ईपीएफ कार्यालयों में अतिरिक्त पदों के सृजन के प्रस्ताव को मंजूरी दी।

• मेसर्स सिटी बैंक को ईपीएफओ की प्रतिभूतियों के संरक्षक के रूप में 3 वर्षों के लिए नियुक्त करने के लिए चयन समिति की सिफारिश को मंजूरी दी गई। वर्तमान संरक्षक मेसर्स स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के कार्यकाल को नए संरक्षक के पदभार ग्रहण करने तक बढ़ाने के प्रस्ताव की पुष्टि की गई।

• एसबीआई एमएफ और यूटीआई एमएफ के ईटीएफ निर्माता के कार्यकाल को बढ़ाने के प्रस्ताव की पुष्टि की गई।

• बोर्ड ने नए बाहरी समवर्ती लेखा परीक्षक की नियुक्ति और कार्यभार ग्रहण करने तक, वर्तमान बाहरी समवर्ती लेखा परीक्षक के कार्यकाल को बढ़ाने की पुष्टि की, जो 31 मार्च 2022 को समाप्त हो रहा था।

• बोर्ड ने ईपीएफओ के पेंशन प्रयासों की सराहना की। कई पेंशन सुधारों ने ईपीएफओ पेंशनभोक्ताओं को पेंशन का समय पर वितरण सुनिश्चित किया और सुविधाजनक प्रक्रियाओं के माध्यम से जीवन प्रमाण को अपडेट करने की सुविधा प्रदान की है। बोर्ड ने पेंशनभोक्ताओं के लिए ईपीएफओ सेवाओं में और सुधार लाने के लिए पेंशन के केंद्रीकृत वितरण को सैद्धांतिक मंजूरी दी।

• ईपीएफओ के विजन दस्तावेज 2047 को बोर्ड के सदस्यों के साथ साझा किया गया। इस दस्तावेज में ईपीएफओ के लिए हर पांच साल के अंतराल पर, 2047 तक बड़े लक्ष्य निर्धारित किए गए हैं। बोर्ड के सदस्यों से इसकी समीक्षा करने व मसौदे में और सुधार के लिए अपने सुझाव देने का अनुरोध किया गया।

• बोर्ड को भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय में पेंशन संबंधी मुकदमेबाजी (अधिकतम वेतन पर पेंशन) की स्थिति से अवगत कराया गया। यह बताया गया कि अदालत की तीन-न्यायाधीशों की पीठ जल्द ही मामलों का निपटारा करेगी।

केंद्रीय बोर्ड की बैठक के तुरंत पश्‍चात् एक सार्वजनिक समारोह का आयोजन किया गया। इस समारोह में अध्यक्ष, के.न्‍या.बो. ने पेंशन और ईडीएलआई कैलकुलेटर भी लॉन्च किया जो पेंशनभोक्‍ताओं और परिवार के सदस्यों को पेंशन व मृत्यु से जुड़े बीमा लाभ के लाभों की गणना करने के लिए ऑनलाइन सुविधा प्रदान करता है, जिसके लिए वे पात्र हैं।

सीबीटी के अध्यक्ष ने उन पेंशनभोक्ताओं की मदद करने के लिए डिजिटल जीवन प्रमाणपत्र के लिए फेस ऑथेंटिकेशन टेक्नोलॉजी की सुविधा भी शुरू की है जिन्हें अधिक आयु के कारण बॉयोमेट्रिक (फिंगरप्रिट और आइरिस) देने में कठिनाई आती है।

सीबीटी के अध्यक्ष ने ईपीएफओ की प्रशिक्षण नीति जारी की जिसका उद्देश्य ईपीएफओ के अधिकारियों और कर्मचारियों को एक सक्षम, उत्तरदायी और भविष्य के लिए तैयार संवर्ग के रूप में विकसित करना है, जो विश्व स्तर के सामाजिक सुरक्षा प्रदाता के रूप में ईपीएफओ के विजन और लक्ष्‍य को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है।

सीबीटी के अध्यक्ष ने लीगल फ्रेमवर्क दस्तावेज भी जारी किया, जिसका उद्देश्य ईपीएफओ को एक कुशल और जिम्मेदार वादी में बदलना था ताकि समन्वित और समयबद्ध तरीके से मुकदमेबाजी का निपटारा सुनिश्चित किया जा सके।

सीबीटी के अध्यक्ष, के.न्‍या.बो. ने वर्चुअल माध्यम से क्षेत्रीय कार्यालय, उडुपी के भवन की आधारशिला रखी। भूमि पूजन श्री के. रघुपति भट, एमएलए, उडुपी विधानसभा क्षेत्र द्वारा स्‍थानीय रूप से किया गया।

अध्यक्ष, के.न्‍या.बो. ने वर्चुअल माध्यम से क्षेत्रीय कार्यालय भवन बेल्लारी का उद्घाटन किया। भवन की आधारशिला का अनावरण बेल्लारी शहर के विधायक श्री गली सोमशेखर रेड्डी ने बेल्लारी में एक स्थानीय समारोह में किया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *