पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग जल्द ही पेंशनभोगियों और बुजुर्ग नागरिकों के लाभ के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) सक्षम कॉमन सिंगल पेंशन पोर्टल का शुभारंभ करेगा –  डॉक्टर जितेंद्र सिंह

केंद्रीय राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) विज्ञान और प्रौद्योगिकी; राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) पृथ्वी विज्ञान; प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्य मंत्री, डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने आज बताया कि पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग जल्द ही पेंशनभोगियों और वृद्ध नागरिकों के लाभ के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) सक्षम कॉमन सिंगल पेंशन पोर्टल का शुभारंभ करेगा। इस पोर्टल से पेंशन के निर्बाध प्रसंस्करण, ट्रैकिंग और वितरण में भी मदद मिलेगी।

पेंशन भुगतान और ट्रैकिंग प्रणाली के लिए एक पोर्टल, ‘भविष्य’ के लाभार्थियों के साथ बातचीत करते हुए, डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सभी के लिए “जीवन में सुगमता” के आदर्श वाक्य को ध्यान में रखते हुए, एआई समर्थित पोर्टल पेंशनभोगियों और सेवानिवृत्त वरिष्‍ठ नागरिकों को स्वचालित अलर्ट भेजेगा। उन्होंने कहा कि पोर्टल न केवल देश भर में पेंशनभोगियों और उनके संघों के साथ निरंतर संपर्क को सक्षम करेगा, बल्कि त्वरित प्रतिक्रिया के लिए उनकी प्रतिक्रिया, सुझाव और शिकायतें भी नियमित रूप से प्राप्त करेगा।

 अर्धसैनिक सेवाओं सहित अधिकांश सेवानिवृत्त वरिष्ठ नागरिकों और सेवानिवृत्त होने वाले लोगों ने भविष्य प्लेटफॉर्म के माध्यम से त्वरित पेंशन प्रसंस्करण की सराहना की और इस तरह की निर्बाध सेवा के लिए केंद्रीय मंत्री महोदय को धन्यवाद दिया। बैंकिंग पक्ष की कुछ अड़चनों को मंत्री महोदय के संज्ञान में लाया गया, जिसके बारे में उन्होंने कहा कि निश्चित दायित्व के साथ एआई सक्षम पोर्टल में स्वचालित रूप से ध्यान दिया जाएगा।

डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने कहा कि ‘भविष्य’ पोर्टल ने मोदी सरकार के पारदर्शिता, डिजिटलीकरण और सेवा वितरण के उद्देश्य के अनुरूप पेंशन प्रसंस्करण और भुगतान का शुरू से अंत तक डिजिटलीकरण सुनिश्चित किया है। उन्होंने अधिकारियों को सलाह दी कि वे नियमित अंतराल पर सेवानिवृत्ति पूर्व कार्यशालाएं आयोजित करें ताकि उन्हें परामर्श दिया जा सके और उनके अनुभवों से सीखा जा सके। मंत्री महोदय ने दोहराया कि पेंशन सुधार न केवल शासन में सुधार हैं, बल्कि इसके व्यापक सकारात्मक सामाजिक प्रभाव भी हैं।

 डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने केंद्र सरकार के सभी ई-गवर्नेंस सर्विस डिलीवरी पोर्टलों में हाल ही में जारी राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस सर्विस डिलीवरी मूल्यांकन 2021 के अनुसार भविष्य के लिए तीसरी रैंक हासिल करने के लिए पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग की भी सराहना की। उन्होंने बताया कि रैंकिंग एक्सेसिबिलिटी, कंटेंट की उपलब्धता, उपयोग में आसानी, सूचना सुरक्षा और गोपनीयता, अंतिम सेवा वितरण, एकीकृत सेवा वितरण, स्थिति तथा अनुरोध ट्रैकिंग पर आधारित है। मंत्री महोदय ने कहा कि एक छोटा विभाग होने के नाते, यह वास्तव में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है क्योंकि यह पूरी तरह से एनआईसी की सेवाओं का उपयोग करके और आउटसोर्सिंग पर भारी मात्रा में खर्च किए बिना पूरी तरह से इन-हाउस निर्माण किया गया है।

डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने कहा कि 01.01.2017 से केंद्र सरकार के सभी विभागों के लिए ‘भविष्य’ प्लेटफॉर्म अनिवार्य कर दिया गया था और वर्तमान में यह प्रणाली 97 मंत्रालयों/विभागों के मुख्य सचिवालय में 815 संलग्न कार्यालयों के साथ-साथ 7,852 डीडीओ में सफलतापूर्वक लागू की जा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि अब तक 1,62,000 से अधिक मामलों पर कार्रवाई की गई है यानी पीपीओ जारी किए गए हैं जिनमें 96,000 से अधिक ई-पीपीओ शामिल हैं।

डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने कहा कि भविष्य 8.0 को डिजिलॉकर में ईपीपीओ को शामिल करने के लिए इस नई सुविधा के साथ अगस्त, 2020 में जारी किया गया था। भविष्य’ डिजिलॉकर की डिजिलॉकर आईडी आधारित पुश तकनीक का उपयोग करने वाला पहला एप्लिकेशन है और अब तक 3892 ई-पीपीओ को डिजिलॉकर में शामिल किया जा चुका है। भविष्य सेवानिवृत्त कर्मचारियों को ई-पीपीओ प्राप्त करने के लिए अपने डिजिलॉकर खाते को “भविष्य” से जोड़ने का विकल्प प्रदान करता है। इस पहल ने पेंशनभोगियों के नष्ट होने से सुरक्षित एक स्थायी रिकॉर्ड बनाया है। उन्होंने कहा, ‘भविष्य’ प्रणाली अब एक मोबाइल ऐप पर उपलब्ध करा दी गई है, जिससे विशेष रूप से उन अर्धसैनिक बलों के लिए अपने पेंशन मामलों पर नज़र रखना आसान हो गया है जो अपनी तैनाती के दौरान मैदान में हैं।”

पेंशन और पेंशनभोगी कल्याण विभाग के सचिव, श्री वी. श्रीनिवास ने कहा कि डिजिलॉकर में पीपीओ नए पेंशनभोगियों को पीपीओ अग्रेषित करने में देरी के साथ-साथ एक भौतिक प्रति सौंपने की आवश्यकता को समाप्त करता है। यह देखते हुए कि बहुत बड़ी संख्या में सेवानिवृत्त सीएपीएफ से हैं जो देश के दूर-दराज के क्षेत्रों में सेवा करते हैं, उनके लिए ऐसा सॉफ्टवेयर जो प्रसंस्करण में आसानी और पेंशन प्रसंस्करण में सुगमता और सटीकता के रूप में एक वरदान है।

सेवानिवृत्त व्यक्ति से अपने कागजात ऑनलाइन दाखिल करने से लेकर इलेक्ट्रॉनिक प्रारूप में पीपीओ जारी करने तक डिजिलॉकर में जाने तक, इस मंच ने सरकार की पूर्ण पारदर्शिता और दक्षता की इच्छ को प्रदर्शित किया है। प्रत्येक हितधारक के पास पेंशन प्रसंस्करण के अपने हिस्से को पूरा करने की समय सीमा होती है और पेंशनभोगियों के मोबाइल पर अलर्ट जारी होता है। जैसा कि पहले होता था, इससे सेवानिवृत्त व्यक्ति को सेवानिवृत्ति के महीनों पहले से सीट-दर-सीट अपनी फाइल का पता लगाने की आवश्यकता समाप्त हो जाती है। चूंकि सॉफ्टवेयर में नवीनतम पेंशन नियमों को शामिल किया गया है, इसलिये पेंशन की गणना सटीक और नियम के अनुसार होती है और संबंधित कर्मचारियों की व्याख्या पर आधारित नहीं होती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top