163वां आयकर दिवस : राष्ट्र निर्माण की दिशा में एक यात्रा

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) और देश भर में उसके सभी क्षेत्रीय कार्यालयों ने आज आयकर दिवस की 163वीं वर्षगांठ का आयोजन किया। इस उपलक्ष्य में क्षेत्रीय स्तर पर कई कार्यक्रमों और गतिविधियों का आयोजन हुआ। इन कार्यक्रमों में करदाताओं के राष्ट्र के प्रति योगदान को सम्मान देने के लिए संपर्क कार्यक्रम, करदाता सम्मान कार्यक्रम, सरकारी उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में कंप्यूटर के रूप में संसाधनों में सुधार के लिए अंशदान, विभिन्न विभागीय कर्मचारियों अनाथालयों/ वृद्धाश्रमों को स्वैच्छिक टोकन दान, रक्तदान शिविरों का आयोजन, स्वास्थ्य जांच और कोविड टीकाकरण शिविर लगाना, पौधारोपण तथा स्वच्छता अभियान शामिल हैं। इसके अलावा, अर्ध मैराथन, साइक्लॉथन, बच्चों और युवा वयस्कों को कर साक्षरता पर बोर्ड गेम्स का वितरण, सांस्कृतिक कार्यक्रम, चित्रकला प्रदर्शनियों का शुभारम्भ और अन्य कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया।

आयकर विभाग को भेजे अपने संदेश में केंद्रीय वित्त एवं कार्पोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने कहा कि हाल के वर्षों में सरकार द्वारा पेश किए गए सुधारों से एक विश्वास आधारित कर प्रणाली सुनिश्चित हुई है। वित्त मंत्री ने कहा कि करदाताओं ने कर संग्रह में सुधार और आयकर रिटर्न की संख्या में बढ़ोतरी के साथ इस विश्वास आधारित दृष्टिकोण की पुष्टि की है। श्रीमती सीतारमण ने नीतिगत सुधारों के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन और खुद को करदाता पर केंद्रित संगठन के रूप में प्रभावी रूप में बदलने के लिए आयकर विभाग की सराहना की।वित्त मंत्री ने पिछले वित्त वर्ष के दौरान अभी तक के सबसे अधिक14 लाख करोड़ रुपये के राजस्व संग्रह के लिए विभाग को बधाई दी और उम्मीद जताई कि विभाग वर्तमान वित्त वर्ष में भी इस प्रदर्शन को बरकरार रखेगा।

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री श्री पंकज चौधरी ने अपने संदेश में कहा कि कर विभाग की जिम्मेदारी सिर्फ दक्ष और प्रभावी कर प्रशासन तक ही सीमित नहीं है, बल्कि ईमानदार करदाताओं को सम्मानित करना और बेहतर करदाता सुविधा उपलब्ध कराना भी उसी का काम है। उन्होंने आज के समय में लोगों की आवश्यकताओं और आकांक्षाओं के अनुरूप खुद में बदलाव लाने और अपने कामकाज को पारदर्शी बनाने, बिना दखलंदाजी और करदाता अनुकूल बनाने के लिए विभाग की सराहना की।

अपने संदेश में, केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री डॉ. भागवत किशनराव कराड़ ने कहा कि आयकर विभाग ने देश के विकास में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने कई दूरगामी सुधारों को लागू करने के लिए विभाग की तारीफ की, जिसमें करदाताओं और अन्य हितधारकों के साथ अपने जुड़ाव को फिर से परिभाषित करने की क्षमता है।

राजस्व सचिव श्री तरुण बजाज ने अपने संदेश में सकारात्मक बदलावों को अपनाकर और करदाताओं को समयबद्ध सेवाएं देने के लिहाज से खुद को एक सक्षम संगठन साबित करने के लिए विभाग की सराहना की। उन्होंने ताजा घटनाक्रमों के साथ खुद को अपडेट रखने और आर्टीफिशियल इंटेलिजेंस एवं डाटा इंटेलिजेंस जैसी आधुनिक प्रौद्योगिकियों एवं बिना हस्तक्षेप के राजस्व जुटाने के लिए डाटा एनालिटिक्स के साधनों के उपयोग के लिए विभाग को बधाई दी। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा आयोजित विभिन्न करदाता संपर्क कार्यक्रमों को अभी करदाताओं और विभाग के बीच परस्पर विश्वास तथा सम्मान का माहौल तैयार करने की दिशा में काफी काम करना होगा।

सीबीडीटी चेयरमैन श्री नितिन गुप्ता ने अपने संदेश में, वित्त वर्ष 2021-22 में अभी तक के सबसे अधिक14.09 लाख करोड़ रुपये के राजस्व संग्रहण के लिए विभाग को बधाई देते हुए विभागीय कर्मचारियों से फिलहाल आराम नहीं करने और कड़ी मेहनत को जारी रखने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि टैक्सपेयर्स चार्टर की सही भावना के साथ करदाताओं की शिकायतों का त्वरित समाधान हमेशा उनकी प्राथमिकता रहेगी। उन्होंने उम्मीद जाहिर की कि विभाग पहले की तरह समान सेवा केंद्रित दृष्टिकोण, सही मूल्यों और नीतियों के द्वारा मजबूत बनने की दिशा में काम करते रहेगा। सीबीडीटी चेयरमैन ने ‘संवाद’ के माध्यम से करदाताओं और हितधारकों को भी संबोधित किया, जो विभाग के यूट्यूब चैनल के माध्यम से प्रसारित हुआ था।

आयकर दिवस का आयोजन विभागीय कर्मचारियों के लिए राष्ट्र की सेवा में अब तक की यात्रा को देखने और राष्ट्र के विकास में योगदान देने के लिए खुद को फिर से समर्पित करने के अवसर के रूप में कार्य करता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top